1. Home
  2. Trending News

अब हर साल बदल जाएगा NCERT किताबों का सिलेबस: टीचर्स को भी दी जाएगी ट्रेनिंग, शुरू होंगे ब्रिज कोर्स

 NCERT books

NCERT changes: अब NCERT किताबों का सिलेबस हर साल बदला जाएगा। शिक्षा मंत्रालय ने हर साल NCERT किताबों का रिव्यू करने और जरूरत के हिसाब से अपडेट करने को कहा है। इससे पहले तक शिक्षा मंत्रालय की तरफ से ये तय नहीं किया गया था कि NCERT किताबों को कितने अंतराल के बाद अपडेट करना चाहिए।

 NCERT books

जरूरत के हिसाब से NCERT किताबों में किया जाएगा बदलाव

PTI से बात करते हुए एक शिक्षा मंत्रालय से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि आज तेजी से बदलते वक्त में ये जरूरी है कि किताबें अपडेटेड रहें। इस वजह से NCERT को हर साल किताबों का रिव्यु करने और जरूरत के हिसाब से उनमें बदलाव करने को कहा गया है। हर साल एकेडमिक सेशन शुरू होने से पहले किताबों को अपडेट किया जाएगा।

एकेडमिक ईयर 2025-26 से नई NCERT किताबों से पढ़ाई होगी

NCERT न्यू करिकुलम फ्रेमवर्क (NCF) के हिसाब से हर क्लास के लिए नए सिरे से किताबें डिजाइन कर रहा है। एकेडमिक ईयर 2025-26 से नई NCERT किताबों से पढ़ाई होगी। नए सिलेबस के साथ NCF टेक्स्टबुक डिजाइनिंग फ्रेमवर्क है। 2023 में NCF के हिसाब से नए सिलेबस और नए पैटर्न में किताबें डिजाइन करने की घोषणा की गई थी।

1 अप्रैल से नई किताबों से पढ़ाई होगी

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (CBSE) क्लास 3 और क्लास 6 के सिलेबस में बदलाव करने की तैयारी में है। नया एकेडमिक सेशन 1 अप्रैल से शुरू होना है। नए सिलेबस के हिसाब से किताबों के पैटर्न में भी बदलाव होने जा रहा है। इससे पहले नेशनल काउंसिल ऑफ एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग यानी NCERT नए सिलेबस के हिसाब से किताबें जारी कर देगा।

 NCERT books

टीचर्स को भी दी जाएगी नए सिलेबस के लिए ट्रेनिंग

CBSE के एकेडमिक्स डायरेक्टर जोसेफ एमैनुअल ने कहा कि सिलेबस में बदलाव करने से न्यू करिकुलम फ्रेमवर्क (NCF, 2023) को बेहतर तौर पर समझने और टीचिंग-लर्निंग प्रोसेस में ढलने में बच्चों को आसानी होगी। न्यू एजुकेशन पॉलिसी (NEP,2020) के मुताबिक स्कूलों के हेड और टीचर्स को भी नए सिलेबस से इंट्रोड्यूस कराया जाएगा और टीचिंग प्रोसेस से जुड़ी ट्रेनिंग भी दी जाएगी।

क्लास 6 के लिए शुरू किया जाएगा ब्रिज कोर्स

NCERT के मुताबिक नए सिलेबस के हिसाब से किताबें तैयार की जा रही हैं। जल्द ही ये स्कूलों तक पहुंच जाएंगी। इसके अलावा क्लास 6 के लिए अलग से ब्रिज कोर्स और क्लास 3 के लिए गाइडलाइन भी बनाई जाएगी। दरअसल, क्लास 3 स्कूलों में प्रिपरेटरी स्टेज का पहला साल होता है और क्लास 6 से मिडिल स्कूल की शुरुआत होती है। ये दोनों स्टेज बच्चों की पढ़ाई के फाउंडेशन को मजबूत करते हैं।

न्यू एजुकेशन पॉलिसी के हिसाब से बदला गया है सिलेबस

क्लास 3 और 6 के सिलेबस और किताबों में NEP यानी न्यू एजुकेशन पॉलिसी और NCF को देखते हुए बदलाव किए गए हैं। NCF न्यू एजुकेशन पॉलिसी का ही हिस्सा है। 2023 में NCF यानी नेशनल करिकुलम फ्रेमवर्क में पांचवीं बार बदलाव किया गया। पिछले साल शिक्षा मंत्रालय ने NCF, 2023 का नोटिफिकेशन जारी कर दिया था। इससे पहले 1975, 1988, 2000 और 2005 में NCF में बदलाव हुए हैं।

खिलौने, कलर-बुक्स के साथ पढ़ाई को मजेदार बनाएं : CBSE

CBSE ने NCF-SE यानी नेशनल करिकलम फ्रेमवर्क फॉर स्कूल एजुकेशन (2023) के हिसाब से नई भाषाओं को सीखने, आर्ट इंटीग्रेटेड एजुकेशन, एक्सपेरिमेंट्स के साथ सीखने पर जोर देने के निर्देश भी दिए हैं। वहीं, फाउंडेशनल स्टेज यानी क्लास 1-3 के लिए खिलौने, पजल, कठपुतली, पोस्टर्स, फ्लैश कार्ड्स, वर्कशीट, स्टोरीबुक्स के साथ पढ़ाई को मजेदार बनाने को कहा है।

 

Around The Web

Trending News

Latest News

You May Also Like