1. Home
  2. Trending News

लोकसभा चुनाव 2024: इंदौर में कांग्रेस को बड़ा झटका, BJP में शामिल कांग्रेस प्रत्याशी, नामांकन लिया वापिस

loksabha election

Indoor akshay kanti bumb:इंदौर लोकसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी अक्षय कांति बम ने सोमवार को नामांकन वापस ले लिया। अक्षय मंत्री कैलाश विजयवर्गीय और भाजपा विधायक रमेश मेंदोला के साथ फॉर्म वापस लेने कलेक्टर कार्यालय पहुंचे। नामांकन वापस लेने के बाद भाजपा भी जॉइन कर ली।

मंत्री विजयवर्गीय ने X पर दी जानकारी

मंत्री विजयवर्गीय ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म X पर लिखा, 'इंदौर से कांग्रेस के लोकसभा प्रत्याशी अक्षय कांति बम का भाजपा में स्वागत है।' सूत्रों के अनुसार, मंत्री विजयवर्गीय ने हाईकमान को भरोसे में लेकर एक होटल में इसकी प्लानिंग की। अक्षय ने नाम वापसी पर अनहोनी की आशंका जताई। कहा- कांग्रेसी बवाल कर देंगे। इसके बाद प्लान में भाजपा विधायक रमेश मेंदोला की भी एंट्री कराई गई। अक्षय को फॉर्म वापस लेने भी मेंदोला के साथ भेजा, विजयवर्गीय खुद बाहर डटे रहे। फिलहाल, अक्षय कांति बम के घर की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा, 'कांग्रेस नेताओं का विश्वास मोदी जी और बीजेपी पर है। कांग्रेस उम्मीदवार का भरोसा अब उनकी पार्टी में नहीं है। कांग्रेस के उम्मीदवार अब पार्टी में नहीं रहना चाहते हैं। कांग्रेस देश को विनाश की तरफ ले जा रही है।'

Indoor akshay kanti bumb:

पटवारी बोले- अक्षय को डराया-धमकाया गया

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष जीतू पटवारी ने कहा, 'अक्षय कांति बम पर तीन दिन पहले एक पुराने मामले में 307 की धारा बढ़वाई गई। डराया गया। धमकाया गया। रातभर यातना दी गई। अलग-अलग प्रकार की। आज उसको साथ ले जाकर फॉर्म वापिस निकलवा लिया गया। इंदौरवासियों, ये मैसेज है कि आपको वोट के अधिकार का इस्तेमाल नहीं करना है। मैं प्रार्थना करता हूं कि आपको अगर लोकतंत्र में विश्वास है तो इस तानाशाही के खिलाफ खड़ा होना पड़ेगा।'

भाजपा : सूरत की तरह पूरा मैदान कर सकती है खाली

भाजपा इंदौर में सूरत की तरह क्लीन स्वीप के प्लान पर काम कर रही है। कांग्रेस के बाद बचे हुए सभी अन्य उम्मीदवारों की भी नाम वापसी हो सकती है। यदि ऐसा हुआ तो सूरत के बाद इंदौर दूसरी ऐसी सीट होगी, जहां भाजपा निर्विरोध जीत सकती है। बता दें कि यहां दोपहर 3 बजे तक नामांकन वापिस लिए जा सकते हैं।

Indoor akshay kanti bumb:

कांग्रेस : खजुराहो की तरह समर्थन देने का ऑप्शन

कांग्रेस खजुराहो सीट की तरह किसी निर्दलीय या छोटे दल के प्रत्याशी का समर्थन कर सकती है। इसके लिए प्रदेश अध्यक्ष जीतू पटवारी सक्रिय हो गए हैं। बता दें कि खजुराहो लोकसभा सीट पर I.N.D.I. गठबंधन के उम्मीदवार का नामांकन रिजेक्ट हो गया था। अब यहां कांग्रेस और समाजवादी पार्टी ने ऑल इंडिया फॉरवर्ड ब्लॉक के उम्मीदवार आरबी प्रजापति को समर्थन दे दिया है। अब वे ही भाजपा प्रत्याशी VD शर्मा के सामने I.N.D.I. गठबंधन का चेहरा हैं।

अब तक तीन उम्मीदवारों ने नाम वापस लिए

इंदौर में कुल 23 उम्मीदवार मैदान में थे। सोमवार दोपहर एक बजे तक अक्षय कांति बम समेत तीन प्रत्याशियों ने नाम वापस ले लिए हैं। अब यहां भाजपा प्रत्याशी शंकर लालवानी के अलावा 19 प्रत्याशी मैदान में बचे हैं।

विधानसभा चुनाव के बाद 5 बड़े नेताओं ने भाजपा जॉइन की

विधानसभा चुनाव के बाद प्रदेश में कांग्रेस से जुड़े 5 नेताओं ने भाजपा जॉइन कर ली है। हाल ही में इंदौर-1 सीट से पूर्व विधायक संजय शुक्ला और विशाल पटेल भाजपा में आए हैं। शुक्ला को मंत्री विजयवर्गीय विधानसभा चुनाव में हरा चुके हैं। वहीं, विशाल पटेल कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष जीतू पटवारी से नाराज बताए जा रहे थे। इससे पहले महू से कांग्रेस के प्रत्याशी रहे रामकिशोर शुक्ला, अंतर सिंह दरबार भी भाजपा में आ चुके हैं। शुक्ला पहले भाजपा में थे, वे महू से टिकट मांग रहे थे। नहीं मिला तो कांग्रेस में चले गए थे। अंतर सिंह दरबार कांग्रेस से टिकट चाह रहे थे, उन्हें पार्टी ने टिकट नहीं दिया तो निर्दलीय उतरे थे।

Indoor akshay kanti bumb:

अक्षय कांति बम के साथ इंदौर 3 विधानसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़े राजा मंधवानी (कमल की माला पहने हुए) ने भी सोमवार को भाजपा जॉइन कर ली। महापौर पुष्यमित्र भार्गव और पूर्व सांसद कृष्णमुरारी मोघे इस मौके पर मौजूद रहे। अक्षय कांति बम के साथ इंदौर 3 विधानसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़े राजा मंधवानी (कमल की माला पहने हुए) ने भी सोमवार को भाजपा जॉइन कर ली। महापौर पुष्यमित्र भार्गव और पूर्व सांसद कृष्णमुरारी मोघे इस मौके पर मौजूद रहे।

4 दिन पहले हत्या के प्रयास की धारा बढ़ाई गई थी

अक्षय कांति बम पर 3 अलग-अलग केस चल रहे हैं। उनके खिलाफ 17 साल पुराना एक मामला फिर चर्चा में आया है, जिसमें उनके खिलाफ धारा 307 (हत्या का प्रयास) बढ़ा दी गई थी।

परिवार की संपत्ति कुल मिलाकर 78 करोड़ के करीब

अक्षय की व्यक्तिगत चल संपत्ति साढ़े 8 करोड़ रुपए की है। इनमें शेयर आदि भी शामिल हैं। अचल संपत्ति में जमीनें हैं, जिनकी बाजार कीमत 47 करोड़ रुपए है। साढ़े 6 करोड़ रुपए की विरासत भी है। अक्षय के नाम पर 56 करोड़ रुपए जबकि पत्नी और बच्चों के नाम पर लगभग 22 करोड़ रुपए की संपत्ति है। कुल संपत्ति 78 करोड़ रुपए के आसपास है।

Around The Web

Trending News

Latest News

You May Also Like