1. Home
  2. Haryana News

कुलदीप बिश्नोई की फिर से किरकिरी, राजस्थान BJP स्टार प्रचारकों की लिस्ट से गायब नाम

Kuldeep bishnoi:

Kuldeep bishnoi: हरियाणा की राजनीति में बीजेपी नेता कुलदीप बिश्नोई के दिन शायद अच्छे नहीं चल रहे है। तभी तो उन्हें एक के बाद एक नया झटका मिल रहा है। बीजेपी ने अब कुलदीप बिश्नोई को एक नया झटका दिया है।Kuldeep bishnoi:

स्टार प्रचारकों की लिस्ट से गायब नाम

राजस्थान में लोकसभा चुनाव के प्रचार के लिए जारी स्टार प्रचारकों की लिस्ट में उनका नाम गायब है। इस लिस्ट में हरियाणा के सीएम नायब सिंह सैनी, रोहतक स्थित बाबा मस्तनाथ मठ के महंत एवं राजस्थान से विधायक बाबा बालकनाथ और केंद्रीय राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर का नाम शामिल है।

हिसार से नहीं मिला टिकट

इससे पहले 24 मार्च की शाम को जारी पार्टी की लोकसभा उम्मीदवारों की लिस्ट में भी कुलदीप बिश्नोई का नाम शामिल नहीं था। चर्चा थी कि उन्हें हिसार से टिकट मिल सकता है, लेकिन पार्टी ने यहां से रणजीत चौटाला को मैदान में उतारा।

राजस्थान में विधानसभा चुनाव के लिए सह प्रभारी लगाया था

कुलदीप ने 2022 में कांग्रेस छोड़कर भाजपा जॉइन की थी। इसके बाद उन्हें राजस्थान में 2023 में हुए विधानसभा चुनाव के लिए सह प्रभारी लगाया गया था। राजस्थान में करीब 37 विधानसभा सीटों और 7 लोकसभा सीटों पर बिश्नोई समाज कर प्रभाव है। सबसे अहम बात यह है कि जहां जहां उन्होंने रैलियां की थी वहां पार्टी के प्रत्याशियों को जीत मिली थी। जिसके बाद उम्मीद जताई जा रही थी कि इसके इनाम में भाजपा उनके प्रभाव वाली हरियाणा की हिसार लोकसभा सीट से उन्हें पार्टी टिकट देगी, लेकिन पार्टी ने उन्हें टिकट नहीं दिया।Kuldeep bishnoi:

पूर्व सीएम चौधरी भजनलाल के बेटे हैं कुलदीप बिश्नोई

कुलदीप बिश्नोई हरियाणा के पूर्व सीएम चौधरी भजनलाल के बेटे हैं। भजनलाल के बाद हरियाणा और राजस्थान में बिश्नोई समाज में कुलदीप से बड़ा कोई नेता नहीं है। उन्हें बिश्नोई रत्न और महासभा का संरक्षक पद भी मिला हुआ है।

कुलदीप बिश्नोई बोले- लोकसभा टिकट न मिलने से मायूसी

हिसार लोकसभा सीट से टिकट न मिलने को लेकर कुलदीप बिश्नोई ने एक वीडियो जारी किया था। इस वीडियो में वह सफाई देते दिखे थे कि लोकसभा टिकट कटने से हरियाणा के साथ ही राजस्थान के कार्यकर्ताओं में मायूसी है। उन्होंने कहा कि समर्थकों के फोन भी आ रहे हैं, लेकिन मायूस होने की जरूरत नहीं है, क्योंकि जिंदगी बहुत लंबी है। अभी वक्त है कि हरियाणा की सभी 10 सीटों पर पार्टी उम्मीदवारों को जिताकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों को मजबूत करना है।

Around The Web

Trending News

Latest News

You May Also Like